नव वर्ष की प्रथम प्रभात से हमारा जीवन भी बदले-नरेश सोनी

Jan 2, 2021 / /

नव वर्ष की प्रथम सभामें श्रद्धेय श्री नरेश सोनी जी (भाई साहिब) ने परमपिता परमात्मा एवं गुरुजनो से सभी के भले के लिए प्रार्थना करते हुए श्री अमृतवाणी जी के पाठ से सभा का आरम्भ किया और प्रभु श्री राम से उन के नाम का दान और राम नाम का प्यार मांगा और प्रार्थना कि हे प्रभु श्री राम हमें अपनी भक्ति और ज्ञान प्रदान कीजिएगा। हमें ज्ञानी भक्त बनाइयेगा। हमें अपने नाम का विश्वास और भरोसा प्रदान कीजिएगा।
श्री नरेश सोनी ने परमपिता श्री राम एवं गुरुजनों के चरण कमलों में प्रार्थना करते हुए कहा कि वर्ष 2021 सब के लिए मंगलमय हो, आप की कृपा एवं आशीर्वाद से हम अपने अंदर प्रेम व भक्ति रूपी दीप जला कर आप के एवम् प्रभु श्री राम जी के प्रेम के पात्र बन सके। नव वर्ष की प्रथम प्रभात से हमारा जीवन भी बदले। गुरुजनों का आशीर्वाद सदा सदा हम सब को प्राप्त होते रहें। श्री स्वामी जी महाराज का कहना है कि कष्ट की घड़ी में सदैव श्री राम को याद करना है। राम नाम सदा सहायक है और सर्व सुख देने वाला है। राम नाम शांति संतोष और प्रसन्नता देने वाला है। जीवन में तूफान आते रहेंगे पर जिस पर उस परमात्मा की कृपा होवे उस का कोई बाल भी बांका नही कर सकता। हमें जाने अनजाने हुई गलतियों को सुधारने के लिए गुरु की और राम नाम की शरण लेनी है। राम नाम का जाप बड़े से बड़े पापी को भी तार देता है। प्रभु श्री राम बहुत दयालु और कृपालु हैं। अगर हम विश्वास और भावना से उन के पास जायेगे तो वह हमारे बड़े से बड़े अपराध को क्षमा कर देगें। राम नाम एक तारक मंत्र है। इस के जाप से बड़े से बड़ा पापी भी तर जाता है। राम नाम दुख भंजन है। कष्ट क्लेश और दुख के समय हमें केवल राम नाम की टेक लेनी है। हर समय यही कहना है मेरे तू मेरा तू मेरा तू ही तू है राम। क्योंकि जहां मेरा पन होता है वहां अधिकार स्वयं ही हो जाता है। हमें नव वर्ष का स्वागत राम नाम के जाप से करना है। गुरुजनों की कृपा से आज हमारी एक पहचान है। हमने देखना है कि सत्संग में आने से पहले हमारी क्या हालत थी और आज क्या है। प्रभु श्री राम चींटी को कण भर और हाथी को मन भर देतें हैं। वह हमारी उचित मनोकामनाओ को आवश्यक पूर्ण करेंगे। हमें सदैव सात्विक अन्न और जल को ग्रहण करना है। क्योंकि जैसे खाओगे अन्न वैसे होगा मन और जैसा पियो गे पानी वैसी होगी वाणी। परमेश्वर अपने भक्तों के हमेशा साथ रहता है। आज हमने यही संकल्प लेना है कि हम सब अपने अंदर गुणों को जागृत करें व निर्भय होकर परमेश्वर के कार्य करें। हमने नव वर्ष में यह प्रण लेना है कि हम से आज तक जो जो गलतिया हुई है उन को हम दोहरायेंगे नही और अपने जीवन को सत्संग और सेवा में लगाएंगे। हम ने हर पल प्रभु का शुकराना करना है जिन्होंने हमें यह अनमोल मानव जीवन दिया है। भाई साहिब ने सूचित किया की नववर्ष 2021 के उपलक्ष्य में 5 दिन और 4 रात्रि का अखंड जप-यज्ञ का शुभ आरम्भ् रविवार 3 जनवरी 2021, प्रातः 9:30 से 11.00 बजे की सभा में होगा। जिस की पूर्णाहुति 7 जनवरी 2021 वीरवार सायं 7-00 बजे से 08-15 बजे तक की सभा में श्री रामशरणम् , किचलू नगर, लुधियाना में होगी।


Send Your Views

Comments


eNews Latest Videos


Related News