महंगाई हुई बेकाबू, सड़क पर बैठे कारोबारी, बोले वोट लेनी है तो पहले रेगुलेटरी कमेटी बनाओ

Nov 3, 2021 / /

बेकाबू हुई महंगाई ने अब कारोबारियों को दीवाली से एक दिन पहले सड़क पर धरना लगाने ला खड़ी की है। जहां हर साल दीवाली से एक दिन पहले अधिकतर कारोबारी अपने बिजनेस कांटेक्स में दीवाली बांटने में व्यस्त रहते हैं, तो कुछ अपनी अपनी इंडस्ट्री में इंप्लाई व स्टाफ को दीवाली बांट उनकी खुशियों में शामिल होते हैं, लेकिन इस बार कारोबारी महंगाई से त्रस्त होकर सड़कों पर धरना लगाने को मजबूर हो गए हैं। कारोाबरियों ने वोट मांगने को आने वाले नेताओं को भी साफ कर दिया है कि वे पहले महंगाई पर काबू करने वाली रेगुलेटरी कमेटी का गठन करें, नहीं तो इस बार वे किसी को वोट नहीं डालेंगे। उनकी ओर से ये धरना गिल रोड पर यूसीपीएमए भवन के सामने लगाया गया है और हालात ऐसे हैं कि सरकार का कोई नुमाइंदा तक उनकी सुध लेने को नहीं पहुंचा। कारोबारियों के इस धरने में गुरमीत सिंह कुलार, अवतार सिंह भोगल, इंद्रजीत सिंह नवयुग, होजरी इंडस्ट्री से तरुण जैन बावा, अजीत लाकड़ा सहित अन्य कारोबारी हाजरी लगाते दिखे। इंडस्ट्रियलिस्ट्स का रोष इस बात को लेकर है कि कई ट्रेड में स्टील का इस्तेमाल होने के कारण कच्चे माल यानि रॉ-मटीरियल के रेट बढ़ने की वजह से उनके प्रोडक्ट्स की लागत बढ़ी। मजबूरन प्रोडेक्ट्स के रेट बढ़ाए तो रिटेलर-खरीदार ऑर्डर कैंसिल करने लगे। ऐसे में बेलगाम होते पैट्रोल-डीजल के रेट, महंगी बिजली, बढ़ते टैक्स जैसी चौतरफा मार झेल रहे कई इंडस्ट्रियलिस्ट मजबूरन अपनी यूनिटें तक बंद करने की सोचने लगे। उद्यमियों ने कहा कि देश में कच्चे माल यानि रॉ-मटीरियल की सप्लाई देने वाले आखिर सरकार की इजाजत के बिना कैसे मनमाने तरीके से अपने माल के भाव बढ़ा लेते हैं। जबकि इंडस्ट्री को अपने प्रोडक्ट की कीमतें बढ़ाने के लिए तमाम प्रक्रियाओं से गुजरना होता है, उसके कारण बताने होते हैं। पेट्रो-कंपनियां मनमाने तरीके से रोज रेट बढ़ा रही हैं और सरकार खामोश है। नतीजे के तौर पर इंडस्ट्री समेत समाज का हर वर्ग प्रभावित हो रहा है। कमाई घटने और खर्चे बढ़ने से इंडस्ट्री भी अपने वर्करों के वेतन चाहकर भी नहीं बढ़ा पा रही है। ऐसे में अकेले इंडस्ट्री से ही जुड़े लाखों-करोड़ों वर्कर कम वेतन में महंगा पैट्रोल, राशन और दूसरी जरुरी चीजें खरीदने को मजबूर है। उनकी नजर में वेतन नहीं बढ़ाने वाले इंडस्ट्री मालिक विलेन की भूमिका में हैं। सरकार को तत्काल स्टील अथॉरिटी का निर्माण करना चाहिए, ताकि इंडस्ट्री को राहत मिल सके।


Send Your Views

Comments


eNews Latest Videos


Related News