पार्किंग टेंडरों से ठेकेदारों ने खींचे हाथ, छह में से मात्र एक पार्किंग का टेंडर ही चढे़गा सिरे

Oct 22, 2020 / /

यशपाल शर्मा, लुधियाना
नगर निगम की ओर से शहर में छह पार्किंग साइटों पर मांगें गए टेंडरों में केवल एक साइट का ही टेंडर सिरे चढ़ता दिखाई दे रहा और पांच साइट के टेंडर फेल हो गए। इस टेंडरिंग से कांट्रेक्टरों की ओर से हाथ खींचने का बड़ा कारण निगम अफसरों की ओर से कांट्रेक्टरों की सुनवाई न करना व इसमें रखी गई कुछ शर्तों पर कांट्रेक्टरों का एतराज बताया जा रहा है। नगर निगम की ओर से आज ए जोन मल्टी स्टोरी, भदौड हाउस, फिरोजगांधी मार्केंट, माडल टाउन, बीआरएस नगर , सराभा नगर आई ब्लाक के लिए टेंडर मांगे गए थे। बड़ी बात है कि फिरोजगांधी मार्केट, माडल टाउन, बीआरएस नगर मेन मार्केट के लिए किसी भी कांट्रेक्टर ने टेंडर नहीं डाला। जबकि मल्टी स्टोरी पार्किंग के लिए एक, भदौड हाउस के लिए दो और आई ब्लॉक की पार्किंग के लिए चार कांट्रेक्टरों कीओर से टेंडर डाला गया है। ऐसे में केवल आई ब्लॉक पार्किंग साइट का टेंडर ही इसमें अभी तक सिरे चढ़ता दिखाई दे रहा। इस टेंडर के फेल होने में नगर निगम के अफसर ही जिम्मेदार दिखाई दे रहे हैं। असल कोरोना पीरियड के छह महीने में कांट्रेक्टरों की ओर से उनकी किशत कम करने की मांग पर अभी तक निगम अफसरों ने कोई सुनवाई नहीं की। केवल मल्टी स्टोरी पार्किंग में ओवरचार्जिंग चलती रही, लेकिन उस पर कईं शिकायतों के बावजूद निगम की कार्रवाई अभी पेंडिंग है। इसके साथ साथ फिरोजगांधी मार्केंट व आई ब्लॉक का टेंडर लेने के बावजूद कब्जा न लेने वाले कांटेक्टरों को भी अफसरों की मिलीभगत के चलते अभी तक ब्लैक लिस्ट नहीं किया गया। वहीं मल्टी स्टोरी पार्किंग कांट्रेक्टर की ओर से डे नाईट में कार पार्किंग के एवज में की गई 1100 रुपए प्रति महीने की वसूली का विवाद भी अभी तक निगम की फाइलों में दबाकर रखा गया है। इस बार फिरोजगांधी मार्केट के लिए 72 लाख और मल्टी स्टोरी के लिए 80 लाख रुपए से बोली शुरु की जानी थी। वहीं इस बारे में एक कांट्रेक्टर मनीष शाह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि निगम की ओर से कांट्रेक्टरों की ओर से पिछले एक साल से कोई सुनवाई नहीं की गई और ऐसे हालातों में कांट्रेक्टराें कब तक घाटा सहता रहेगा।


Send Your Views

Comments


eNews Latest Videos


Related News