डीसी वरिंदर शर्मा के तबादला मामले में कैबिनेट मंत्री आशू को झटका, इलेक्शन कमिशन ने खारिज किया तबादला

Nov 16, 2021 / /

लुधियाना के डिप्टी कमिश्नर वरिंदर कुमार शर्मा के तबादला मामले में कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशू को बड़ा झटका लग गया है। पंजाब सरकार की ओर से लुधियाना के डिप्टी कमिश्नर वरिंदर शर्मा के तबादले को भेजे आर्डर को खारिज कर दिया है। सूत्र बताते हैं कि कैबिनेट मंत्री आशू पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के समक्ष इस तबादले को लेकर अडे़ हुए थे और उनकी सिफारिश पर ही चन्नी की ओर से एक तबादला सूची में लुधियाना के डीसी का नाम भी भेजा गया था। मंगलवार को इलेक्शन कमिशन की ओर से इस मामले में ये तबादला खारिज करते हुए अपना स्टैंड साफ कर दिया है। गौर हो कि इस पूरे मामले का खुलासा ई न्यूज पंजाब की ओर से किया गया था और इसके बाद आम आदमी पार्टी की ओर से भी डीसी के हक में मोर्चा खोलते हुए इलेक्शन कमिशन को पत्र लिख इस तबादले को रदद करने की मांग की थी। इतना ही नहीं भारतीय जनता पार्टी की पंजाब इकाई भी डीसी के तबादले को लेकर पंजाब के मुख्य चुनाव अधिकारी एस करुणा राजू के संपर्क में थे व उनकी ओर से भी इस तबादले को लेकर अपना एतराज जताया गया था। जानकार बताते हैं कि लुधियाना इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की ओर से माडल टाउन एक्सटेंशन में ई आक्शन के जरिए बेची गई 3.79 एकड़ जमीन मामले में डिप्टी कमिश्नर वरिंदर शर्मा की ओर से की गई रिपोर्ट के बाद पंजाब सरकार को ये नीलामी रदद करनी पड़ी थी। इतना ही नहीं डीसी की ओर से रानी झांसी रोड कांप्लेक्स की नीलामी का रिजर्व रेट कम करने से भी इंकार करते हुए दोबारा से इसका रिजर्व रेट 197 करोड़ रुपए तय कर दिया गया और लुधियाना इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन रमण बाला सुब्रामनियम की ओर से डीसी के इस फैसले पर लोकल गर्वमेंट के पास अपना एतराज भी दर्ज करवाया गया है। वहीं इस मामले में लुधियाना आम आदमी पार्टी की ईकाई की ओर से ये आरोप लगाए गए थे कि लुधियाना के मंत्री व विधायक मौजूदा डीसी से कुछ गलत काम करवाना चाहते हैं और ये काम करने से इंकार के चलते ही उनका तबादला किया जा रहा है। जानकार बताते हैं कि लुधियाना के डीसी की शहर में चल रहे स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्ट व 650 करोड़ के बुडडा नाला प्रोजेक्ट में भी अहम भूमिका है और इन वर्क की मंजूरी में भी डीसी की सहमति बेहद जरुरी है। गौर हो कि वरिंदर शर्मा के तबादले के बाद लुधियाना में प्रमोटी आईएएस डा. अमरपाल सिंह को लुधियाना का डीसी लगाए जाने की बात लीक हुई थी और आप ने इस पर भी अपना एतराज जताते हुए किसी प्रमोटी आईएएस को लुधियाना के चार्ज दिए जाने पर अपना एतराज जताते हुए इसके विरोध में उतरने की बात कही थी। गौर हो कि डा. अमरपाल सिंह पनसप (मौजूदा एसटीसी) में बतौर एमडी कार्यभार संभाल चुके हैं और कैबिनेट मंत्री के बेहद करीबी भी बताए जाते हैं। इतना ही नहीं अमरपाल सिंह का नाम अकाली भाजपा कार्यकाल में आर्यन ओर घोटाले में भी जुड़ चुका है। अमरपाल सिंह को अपने पिता जो कि सिविल सर्जन के पद पर थे, की मौत के बाद उनकी जगह तरस के आधार पर बतौर पीसीएस लगाया गया था।


Send Your Views

Comments


eNews Latest Videos


Related News