चन्नी सरकार पर सुखबीर का हमला, बोले 40 साल में पंजाब पर चढ़ा 1.82 लाख करोड़ का कर्जा, कांग्रेस ने पांच साल में ही बढ़ाकर किया 2.73 लाख करोड़

Nov 2, 2021 / /

यशपाल शर्मा, लुधियाना


पिछले विधानसभा चुनाव से पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब की जनता के साथ झूठे वायदे कर लोगों को गुमराह किया और सरकार के केवल बचे दाे महीनों में मौजूदा मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी उसी तर्ज पर झूठे वायदे करके पंजाब को बर्बादी की ओर से ले जा रहे हैं। अगर कांग्रेस सही में लोगाें का हित चाहती थी तो तीन रुपए यूनिट सस्ती बिजली चार साल पहले क्यों नहीं की गई। जनता को ये बात समझनी चाहिए कि अब सस्ती बिजली के वायदे व सरकारी मुलाजिमों के डीए में बढ़ोतरी अब केवल वोट बैंक की राजनीति है। ये बात शिरोमणि अकाली दल के प्रधान व पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल ने लुधियाना को होटल महाराजा रिजेंसी में आयोजित प्रेसवार्ता दौरान कही। इस दौरान सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि पंजाब कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू खुद मान गए है कि ये केवल दो महीनों के लिए लालीपोप है। उन्होंने कहा कि जो लुभावने वायदे मौजूदा सरकार कर रही है, उसकी जिम्मेदारी चन्नी की नहीं है, बल्कि अगली आने वाली सरकार की होगी। इसलिए चन्नी रोज कोई न कोई नया एलान करते चले जा रहे हैं। जब हमने सरकार छोड़ी तब पंजाब पर 1 लाख 82 हजार करोड़ का कर्ज था जो अब 2 लाख 73 हजार करोड़ हो गया है। मतलब ये कि पिछले पांच साल में 91 हजार करोड़ का कर्जा पंजाब की जनता पर बढ़ा दिया गया है। जो कर्ज पंजाब पर पिछले 40 साल में नहीं चढ़ा उसका आधा कर्ज कांग्रेस सरकार ने 5 साल में बढ़ा दिया। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार ने अभी तक पावरकॉम के करीब 7 हजार करोड़ के पुराने बकाए का भुगतान नहीं कर पाई है और अब इस सस्ती बिजली के एलान से अब 5.5 हजार करोड़ की नई बकाएदारी पंजाब पर आ खड़ी होगी। आगे चलकर इसका नतीजा ये होगा कि पंजाब में धर्मल प्लांट बंद हो जाएंगे, मुलाजिमों की तनखाह रुक जाएगी और काेयला आना तक बंद हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अगर इन दावों के दम पर कांग्रेस आ भी गई तो फिर से बिजली के दाम 5 रुपए प्रति यूनिट ये कहकर बढ़ा दिए जाएंगे कि सरकार का खजाना खाली है।


----


करार रदद करने पर कंपनी करना पड़ेगा 1600 से 1700 करोड़ का भुगतान


उन्होंने कहा कि बिजली के लिए ये एमओयू उनकी ही सरकार में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किया था और अगर ये करार कैंसिल किया जाता है तो सरकार को 1600-1700 करोड़ रुपए जीवीके को देना पडे़गा और करार कैंसिल होने पर ये कंपनियां कोर्ट चली जाएंगी। हमारी सरकार में बेहतरीन काम कर बिजली बोर्ड को पटरी पर लेकर आई और बेहतरीन मैनेजमेंट से बिजली बोर्ड घाटे से मुनाफे में आया और अब इन्होंने बिजली बोर्ड को तबाह कर दिया। हमनें नए पाॅवर प्लांट बनाए, ग्रिड सिस्टम बेहतर किए और बिजली लासिस 29 फीसदी से कम करके 14 फीसदी पर लेकर आए , जो अब दोबारा से 23 फीसदी पर पहुंच गए हैं। बिजली चोरी न रोके जाने के चलते करीब 1600 करोड़ का नुकसान बिजली बोर्ड को हुआ, क्यों कि इस डिपार्टमेंट का कोई मंत्री तक सरकार नहीं रख पाई। चन्नी सरकार पंजाब का पूरा इंफ्रास्ट्रक्चर तोड़ रही है। चन्नी सरकार ने बीते महीनों में 14 रुपए से लेकर 16 रुपए यूनिट तक बिजली खरीदी है। अगर इसी तरह के एलान बिना सोचे समझे किए जाएंगे तो पंजाब की जनता को 20 रुपए यूनिट बिजली मिलेगी।


-----


सरकारी मुलाजिमों के डीए बढ़ोतरी की भी खोली पोल


प्रेसवार्ता में सुखबीर ने सरकारी मुलाजिमों को 11 फीसदी से 27 फीसदी डीए अनाउंस किए जाने के एलान पर भी पंजाब के सीएम को घेरा। उन्होंने कहा कि पिछले साढे़ चार साल में एक भी डीए की किश्त पंजाब के मुलाजिमों को कांग्रेस सरकार नहीं दे पाई और अब इस अनाउंस में सीधे 16 फीसदी की वृद्धि कहां से कांग्रेस सरकार दे पाएगी। इस अवसर पर सुखबीर सिंह बादल ने मनप्रीत सिंह बादल से सवाल करते कहा कि उन्होंने सौगंध उठाते कहा कि था कि पंजाब को सही राह पर लेकर आउंगा और तब वे सब्सिडी के खिलाफ थे, तो अब क्यों वे सब्सिडी के हक में हैं । हमारी सरकार की ओर से बनाए सेवा केंद्र बंद ये कहकर बंद कर दिए, क्यों कि इसमें 200 करोड़ रुपए का खर्च आ रहा था। उन्होंने कहा कि बीएसएफ के मुददे पर रेज्यूलेशन डालना कोई हल नहीं, ब्लकि इस मुददे पर पंजाब कैबिनेट की मीटिंग बुला उसमें फैसला लिया जाना चाहिए। हमारी ओर से लगाए थर्मल प्लांट से 2.90 रुपए प्रति यूनिट बिजली मिल रही, जबकि कांग्रेस 14-15 रुपए यूनिट पर बिजली खरीद पर जनता पर कर्ज का बोझ बढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब में 22 फीसदी वैट है और अगर चन्नी सरकार उसे भी माफ कर दे तो पैट्रोल डीजल के दाम भी 20 रुपए लीटर तक कम हो जाएंगे। उन्होंने पंजाब के लोगों को आगाह करते कहा कि जिस ढंग से चन्नी सरकार काम कर रही है, वो पंजाब को तबाह कर देगी।


Send Your Views

Comments


eNews Latest Videos


Related News