अकाली नेता बोले कांग्रेस के इशारे पर हुई उन पर एफआईआर, नहीं लेंगे जमानत, चाहे तो कर लें गिरफतार- ढिल्लों/गोशा

Feb 13, 2020 / /

ई न्यूज पंजाब, लुधियाना

 आखिरकार घंटाघर चौक पर रेहड़ी फड़ी यूनियन की ओर से लगाए धरने में शामिल अकाली नेताओं ने पुलिस प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। वीरवार को शिअद जिला प्रधान रणजीत सिंह ढिल्लों व यूथ अकाली जिला प्रधान गुरदीप सिंह गोशा की अगुवाई में आयोजित प्रेसवार्ता दौरान पुलिस कमिश्नर पर अकाली दल विरोधी होने के आरोप लगे। उक्त अकाली नेताओं का आरोप था कि
राजनीति से प्रेरित होकर उनके सहित अकाली दल के नेताओं पर केस दर्ज किया है और सब कुछ कांग्रेस के ईशारे पर किया गया है। उन्होंने ऐलान किया कि वह 14 फरवरी को पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल के पास जाएंगे तथा उनसे पूछेंगे कि क्या केवल उन पर ही यह केस क्यों दर्ज किये क्योंकि इससे पहले कांग्रेस व अन्य ने इसी जगह पर धरने प्रदर्शन किये था। अकाली दल के नेता बिल्कुल केस में जमानत नहीं लेंगे भले ही कल उन्हेें पुलिस कमिश्नर गिरफतार कर सकते है। अकाली दल गरीबों के हक में खड़ा है । अकाली दल उस दिन सरकार द्वारा उजाड़े गए गरीब रेहड़ी फड़ी वालों की बात सुनने गया था लेकिन गरीबों सहित उन पर मामला दर्ज कर दिया गया। जबकि नगर निगम पर मामला दर्ज होना चाहिए था क्योंकि इन्हीं रेहड़ी फड़ी वालों को निगम ने रैगुलाइज किया था तथा उनसे फीस लेकर पर्ची भी काटी गई थी। इसके पीछे बड़ा घोटाला है। क्योंकि सप्रीम कोर्ट तो पहले ही वैडिंग जोन बनाने का आदेश दे चुका है लेकिन बिना वैडिंग जोन बनाए रेहडी फड़ी वालों को हटाना करप्शन की साजिश का हिस्सा है। यूथ विंग के प्रधान गुरदीप सिंह गोशा ने कहा कि यह अकाली दल को दबाने की साजिश का हिस्सा है। अकाली दल कब्जे हटाने के खिलाफ नहीं है तथा वह मुहिम की प्रशंसा करते है। लेकिन इस प्रकार गरीबी की बजाये गरीबों को उजाडऩे की नीति को सफल नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि तुरंत गरीब रेहड़ी फड़ी वालों सहित सभी पर दर्ज पर्चे रद्द किये जाए। ऐसा नहीं हुआ तो वह कड़े कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में अपनी आवाज रखना हरेक का हक है लेकिन इस प्रकार से नादिरशाही हुकमों से लोकतंत्र को दबाने नहीं दिया जाएगा।






Send Your Views

Comments


eNews Latest Videos


Related News