इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की ई आक्शन पर लगा ग्रहण- ट्रस्ट चेयरमैन व लोकल गर्वमेंट सेक्रेटरी आमने सामने, तीन एससीएफ कैंसिल होने से बढ़ा विवाद

Feb 13, 2020 / /

यशपाल शर्मा, लुधियाना 
इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की ओर से अपनी प्रॉपर्टी की करवाई जाने वाले ई- आक्शन विवादों में फंसती दिखाई दे रही है। इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की ओर से अपनी प्रॉपर्टी की ई-आक्शन को पहले 9 जनवरी 2020 की आक्शन एक्सटेंड करते हुए इसे 20 जनवरी कर दिया था और इसके बाद इस पूरी प्रक्रिया को ही रदद करने के आदेश चेयरमैन रमण बालासुब्रामनियम की ओर से दे दिए गए थे। अब इस पूरे विवाद में इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन रमण बाला सुब्रामनियम और लोकल गर्वमेंट के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी संजय कुमार आमने सामने होते दिखाई दे रहे हैं। करीब एक महीना गुजरने को है, लेकिन ये विवाद सुलझने को नहीं आ रहा है। ये पूरा विवाद लोकल गर्वमेंट की ओर से 5 दिसंबर 2019 को करवाई गई ई आक्शन में बीआरएस नगर के एससीएफ 62,67 व 69 की आक्शन को रदद किये जाने से खड़ा हुआ है। ये तीनों एससीएफ फिंडोक फाइनांसशियल सर्विस ग्रुप की ओर से ई आक्शन के जरिए खरीदे गए थे, लेकिन सरकार ने ये तीन एससीएफ कम रेट पर बेचे जाने की बात कहते हुए कैंसिल कर दिए गए। सरकार के इन आदेशों के बाद इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन बाला सुब्रमनियम ने कैंसिल किए गए इस फैसले को दोबारा से विचारने के लिए 9 जनवरी 2010 को एक पत्र डायरेक्टर को लिखा गया। तीन एससीएफ की आक्शन रदद किए जाने के चलते ही पहले 9 जनवरी की ई आक्शन को एक्सटेंड कर 20 जनवरी कर दिया गया, लेकिन चेयरमैन की ओर से भेजे गए पत्र का कोई जबाव न आने पर 20 जनवरी की ई आक्शन पूरी तरह से रदद कर दी गई। ट्रस्ट की ओर से बेचे जाने वाली प्रॉपर्टी से स्टाफ को सैलरी व स्कीमों में डेवलपमेंट करवाई जाती है। गौर हो कि इंप्रूवमेंट ट्रस्ट की स्कीमों के अलावा वेस्ट और ईस्ट विधानसभा की डेवलपमेंट के दर्जनों काम ट्रस्ट की आमदनी से करवाए जा रहे हैं। ऐसे में ई आक्शन संबंधी कोई फैसला न आने से इन सभी कामों पर भी ब्रेक लगना तय है।  

आखिर कौन हैं फिंडोक फाइनांसशियल सर्विस ग्रुप 
बात करें फिंडोक फाइनांसशियल सर्विस ग्रुप की तो इसके मालिक हेमंत सूद है और ये वहीं कंपनी है जिसकी ओर से शहर में करीब 27 करोड़ रुपए सालाना खर्च पर लिफ बैरी नाम की कंपनी से शहर में यूनिपोल्स का भारी भरकम टेंडर भी लिया गया है। बात करें उक्त कंपनी की तो कांग्रेस सरकार के सत्ता में आने के बाद इस कंपनी सरकार में एकाएक भागीदारी बडे पैमाने पर बढ़ी है। ये कंपनी स्टॉक मार्केट, कमोडिटी व फाइनांस के कारोबार में तो पिछले करीब 20 साल से अधिक समय से काम कर रही है, लेकिन पिछले तीन सालों में बडे़ हाउसिंग प्रोजेक्ट व सरकारी टेंडरों में भी उठकर सामने आई है। सूत्रों के मुताबिक सरकार के पास इस आक्शन में उक्त कंपनी को फायदा देने व कम रेट पर इन्हें एससीएफ देने की शिकायत पहुंची थी और इसी के चलते सरकार ने केवल इसी कंपनी के एससीएफ की आक्शन रदद की है। 

क्या कहते हैं इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन
इस बाबत जब इंप्रूवमेंट ट्रस्ट के चेयरमैन रमण बालासुब्रामनियम से सीधे बात की गई तो उन्होंने बताया कि ई आक्शन में बेचे गई प्रॉपर्टी को कैंसिल करने की कोई पाॅवर लोकल बॉडी सेक्रेटरी के पास नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार केवल अपनी मंजूरी में ये चैक कर सकती है कि आक्शन में सभी नियम कानूनों को पूरा किया गया या नहीं। लेकिन इंप्रूवमेंट ट्रस्ट से लेकर लोकल गर्वमेंट आफिस में तैनात क्रप्ट स्टाफ के चलते सब कुछ मनमाने ढंग से चल रहा है। उन्होंने बताया कि आक्शन में बेचे गए तीनों एससीएफ जिन्हें सरकार ने कैंसिल किया है, उनका खरीददार बाद की दस फीसदी राशि छह फीसदी चैक से जमा करवा चुका है और अगर अब ये आक्शन रदद की जाती है तो कानूनी अड़चने खड़ी हो सकती हैं। रमण ने बताया कि आक्शन में जिन प्रॉपर्टी के कम रेट लगे थे उन्हें मैंने खुद रदद किया है। ये तीनों एससीएफ लेन के आखिरी एससीएफ थे और इसी लिए ट्रस्ट में डिप्टी डायरेक्टर, डीसी आफिस से व तहसील आफिस से स्टाफ आक्शन में बैठा था, उनकी सहमति से ही ये आक्शन मंजूर की गई। ऐसे में जब तक मुझे ई आक्शन को लेकर सभी बातें साफ नहीं होंगी तब तक के लिए ये आक्शन रदद की गई है। खास बातचीत में उन्होंने ये भी साफ किया कि चुगलखोरी करके लोकल गर्वमेंट अफसरां को गुमराह किया गया है और इसमें लोकल व स्थानीय स्टाफ शामिल हैं।

--सरकार ने हमारी ओर से खरीदे एससीएफ की ई आक्शन कैंसिल कर दी है, इस बारे अभी हमें कोई पत्र नहीं मिला है और इसके बाद ही कोई अगली कार्रवाई व कानूनी कदम सोचा जाएगा।
हेमंत सूद, एमडी फिंडोक फाइनांसशियल सर्विस ग्रुप
-----
इस बारे में अभी एक दिन पहले लोकल बॉडी मंत्री व सेक्रेटरी इस इश्यू सहित कईं अन्य मामलों में चर्चा हुई है। हमनें इस ई आक्शन में सभी रुल्स फालो किए हैं और कईं अन्य तकनीकी चीजें उन्हें बताई हैं। हमें उम्मीद है कि इसमें आगे पाजिटिव जबाव हमें सरकार से आ जाएगा।
रमण बाला सुब्रामनियम, चेयरमैन इंप्रूवमेंट ट्रस्ट लुधियाना


Send Your Views

Comments


eNews Latest Videos


Related News